top of page
  • Writer's pictureVishakha

एक सपना ।। Ek Sapna

Updated: Jun 10, 2021

एक सपना।


एक सपना जो हमने देखा था,

नहीं - नहीं , जो मैंने देखा था,

अब ठीक ?


क्या उसे अब जाने देना चाहिए ?

जो भी था, थोड़ा ही सही अच्छा तो था |


तो जाने दूँ क्या ?

वो बिता हुआ कल, जो बीतता ही नहीं है,

किसी न किसी बहाने, सामने आ जाता है,

मुझ पर व्यंग करता है।


हाँ , सच !

मैं नहीं बुनती हूँ अब,

तुम्हारे ख्वाबों की मख़मली चादर।

फिर भी, तुम चले आते हो,

किसी गली, किसी मोड़ से मुड़कर,

अचानक ही, आदतन।


लेखिका

विशाखा

Buy Redmi Note 10s


57 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


Subscribe For Latest Updates

Thanks for subscribing!

bottom of page