top of page
  • Writer's pictureChetan

कुछ नहीं | Kuch Nahi

कुछ नहीं


न कोशिश किस्मत आज़माने की

न जरूरत है फिर दिल लगाने की


न ये चाहत कि तुमको भूल जाऊं

न है ख्वाहिश तुम्हे फिर पाने की


न मेरी हसरत मे है ख्वाब भी कोई

न तुम्हे इजाज़त है मुझे जगाने की


न हर दफा मनाया कर ए ज़िंदगी

न मेरी आदत छूटेगी रूठ जाने की


न मेरी आंखों से तेरी यादें बहती हैं

न मेरे लबों को आदत मुस्कुराने की


न शिकायत शिकस्त से रही मुझे

न खुशी किसी बुलंदी पर आने की


न काबिल ए नफ़रत पहचान मेरी

न चाहत मुझे किसीको चाहने की



लेखक

Poet Chetan
चेतन

Best Hindi Novel To Read-



37 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


Subscribe For Latest Updates

Thanks for subscribing!

bottom of page