top of page
  • Writer's pictureSanjay

चलना ही तो जीवन है , रुकना मौत समान है।

चलना ही तो जीवन है , रुकना मौत समान है।


Motivational Poem for Students

जीवन का छण छण बीत रहा,

हर छण में तु कुछ सीख रहा,

पुष्प रुपी जीवन को अपने,

आँसुओं से तु सींच रहा,

मंज़िल तुझसे है दूर बड़ी,

विपदाओं से है घिरी पड़ी,

मंज़िल पथ काँटों से भरा है,

चलना जिसपर मुश्किल बड़ा है,

पर एक छण को ना भूल तु,

चलना ही तो जीवन है, रुकना मौत समान है।।



Hindi poem for motivation

तू देख सागर की लहरों को,

एक पल को भी न ठहरे जो,

तु देख दिनकर कि किरणों को,

जो मिलती है प्रतिदिन जीवन को,

तु देख दिपक के जलते लौ को,

जो दूर करे अँधेरे को,

आगे बढ़ते अपने पग को,

एक पल को ना विश्राम दे,

चलना ही तो जीवन है, रुकना मौत समान है।।



Hindi Poem

कुछ कर ऐसा जो मिसाल बने,

रच व्यक्तित्व ऐसा जो विशाल बने,

तेरे अपने भी तुझपर गर्व करे,

तेरा जीवन भी एक पर्व बने,

तु पथ की विपदाओं से लड़ता जा,

जल प्रवाह सा आगे बढ़ता जा,

मत भूल , हारना तो एक कोशिश है,

जीत जिसका परिणाम है,

चलना ही तो जीवन है, रुकना मौत समान है।।


Hindi inspirational poem

थक हार कर बैठा है तू,

सपनों को मारकर बैठा है तू,

गति नहीं क्या तेरे पंखों में

उड़ने से क्यों डरता है तू?

सतत आगे बढ़ने से ही तुझको सम्मान मिलेगा,

उड़ने की कोशिश तो कर तुझको आसमान मिलेगा,

तेरी इच्छाओं से बड़ा तेरा स्वाभिमान है,

चलना ही तो जीवन है, रुकना मौत समान है।।





कवि

Motivational Hindi Poem
संजय




204 views1 comment

Recent Posts

See All

1 comentario


satyamraj2135
08 jul 2022

Kya bat h Sanjay

Me gusta
Subscribe For Latest Updates

Thanks for subscribing!

bottom of page