top of page
  • Writer's pictureअंजान (कृष्ण कांत त्रिपाठी)

परछाईं | Parchaen

Updated: May 7, 2021

जब कभी मैं ढलते सूरज को देखता हूं तो मुझे दिन भर के थके हारे घर लौटते मनुष्य का ध्यान आता है | कैसे वह हर रोज परिवार के भरण पोषण खातिर हर सुबह शांत मन से घर से निकलता है। ऑफिस में बॉस की डांट सुनता है। और पूरे दिन अंदर ही अंदर जलते रहता है। फिर उन्हीं बातों को मन में बिठाए मन हीं मन कुंठित होकर घर लौटता है।


ऑफिस से घर लौटते वक्त मन में हजारों बुरे ख्यालआते रहते हैं। वह नदी को देखकर सोचता है समाहित हो जाऊं इसकी गहराई में, ख़तम कर दूं जिंदगी की बाधाएं, तभी आता है खयाल घर पर इंतजार कर रहे बीवी और बच्चों का, रुक जाते हैं उसके कदम नदी की गहराई में परछाई को डूबते देखकर वह संभालता है अपने आप को, और फिर खो जाता है अपने गमों के सागर में हर रोज घटित होती है यह घटना उसके साथ, वह रोज़ डुबोता है अपने परछाईं को अस्त होते सूरज की परछाईं की तरह।



लेखक

अंजान

(कृष्ण कांत त्रिपाठी)


Books You Should Read:


60 views0 comments

Kommentare


Subscribe For Latest Updates

Thanks for subscribing!

bottom of page